नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय। Neeraj Chopra Biography। India’s first Gold Medalist In Tokyo

Rate this post

नीरज चोपड़ा (जन्म 24 दिसंबर, 1997 जाट किसान परिवार ) एक भारतीय ट्रैक और फील्ड एथलीट प्रतिस्पर्धा में भाला फेंकने वाले खिलाड़ी हैं। नीरज ने 87.58 मीटर भाला फेंककर टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है |

जन्म:24 दिसंबर 1997 (उम्र 23 साल), पानीपत
व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ (ओं):88.07 (2021) NR
रैंक:सूबेदार
कोच:उवे होनो
इवेंट:भाला फेंक
स्वर्ण पदक:2020 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में एथलेटिक्स – पुरुषों की भाला फेंक, 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में एथलेटिक्स – पुरुषों की भाला फेंक, 2018 एशियाई खेलों में एथलेटिक्स – पुरुषों की भाला फेंक
माता-पिता:सरोज देवी, सतीश कुमार

अंजू बॉबी जॉर्ज के बाद किसी विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक को जीतने वाले वह दूसरे भारतीय हैं। बायडगोसज्च्ज़, पोलैंड में आयोजित 2016 आइएएएफ U20 विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की। इस पदक के साथ साथ उन्होंने एक विश्व जूनियर रिकॉर्ड भी स्थापित किया है। और 2021 टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता। ऐसा करने वाले वे पहले एथलीट बन चुके हैं जिसने इंडिविजुअल इवेंट में गोल्ड मेडल अपने नाम किया हो।

नीरज चोपड़ा ने भारत का झंडा टोक्यो में लहरा दिया है। इतिहास बनते नहीं बनाए जाते हैं आज नीरज चोपड़ा ने यह साबित कर दिया है।

भारतीय खेल इतिहास में अपना नाम सुनहरे अक्षरों से वो नामांकित कर चुके हैं। उनकी इस कामयाबी पे भारत की बड़ी बड़ी हस्तियों ने उन्हें बधाईयां दी है। भारत के राष्ट्रपति प्रधानमंत्री सहित अनेक हस्तियों द्वारा शुभकामनाएं मिली हैं।

Neeraj Chopra At Tokyo2020 Olympics After Winning Gold Medal

नीरज का शुरुआती जीवन:

नीरज चोपड़ा हरियाणा की एक गरीब परिवार से हैं उनके पास पहला भाला खरीदने के पैसे भी नहीं थे इसीलिए वह 6 से ₹7000 रुपए वाले भाले से पानीपत में प्रैक्टिस किया करते थे। तमाम कठिनाइयों के बावजूद उन्होंने भारत का कीर्तिमान बढ़ाया है। और खुद को हर मुकाम पर सफल साबित भी किया है।

वह खंडरा गांव से हैं, जो कि पानीपत, हरियाणा , भारत में है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में उनके कोच गैरी कैल्वर्ट हैं।

पदक अभिलेख और उपलब्धियां:

2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी करते हुए 82.23 मीटर तक भाला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता था। ऐसे प्रदर्शन के बावजूद भी वे 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में स्थान पाने में वह विफल रहे क्योंकि अर्हता प्राप्त करने के लिए अंतिम तिथि 11 जुलाई थी।

नीरज ने 85.23 मीटर का भाला फेंककर 2017 एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में सम्पन्न हुए 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों में उन्होंने 86.47 मीटर भाला फेंककर स्पर्धा का स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

और टोक्यो२०२० ओलंपिक में उन्होंने 87.58 मीटर भाला फेंक कर गोल्ड मेडल हासिल किया।

About Author

https://jivanisangrah.com/

Jivani Sangrah

Explore JivaniSangrah.com for a rich collection of well-researched essays and biographies. Whether you're a student seeking inspiration or someone who loves stories about notable individuals, our site offers something for everyone. Dive into our content to enhance your knowledge of history, literature, science, and more.

Leave a Comment